SHARE

10378206_364270273697887_8519747107054918727_n

Any name given to place or person represent their Prakriti (Ideally). It is our limited understanding that we limit word ‘Ganga’ with physical flow of water from Gangotri to Bay of Bengal. Ganga denotes specific prakriti of the place/panch mahabhut. It flows in our body too, from head to heart (I gave you hint. Go research on it).

Ganga = Self-healing
Ganga = Dosha balancer
Ganga = Toxicity reducer
Ganga = Anti-aging

Gau mata is potent to flow Ganga wherever she is served and worshiped. Gau mutra is Ganga swarup.

Tulsi mata is potent to architect Ganga whereever she is worshipped. In her presence, air, water, soil becomes Ganga swarup.

Plant Tulsi at home. Worship her daily. Get blessed with Maa Ganga.

तुलसी विपिनस्यापि समन्तात्पावन स्थलम्।
कोषमात्रं भवत्येव गंगे यस्येव पायसः।।

अर्थात्- तुलसी वन के चारों ओर एक कोस अर्थात् दो मील तक की भूमि गंगाजल के समान पवित्र होती है। स्मरण रहे कि रोग किटाणु नाष की गंगा जल में अपूर्व शक्ति है। उसमे कोई कीटाणु जीवित नहीं रह सकता और इसलिये गंगाजल कभी सड़ता नहीं। भगवान के पंचामृत भोग प्रसाद में तुलसी का ही उपयोग किया जाता है। मरते समय तुलसी पत्र मुख में डालते हैं। तुलसी की माला पर किया हुआ जप श्रेष्ठ माना जाता है, तुलसी पंचांग द्वारा विनिर्मित एक ही तुलसी वटी द्वारा अनुपान भेद से समस्त रोगों का उपचार हो सकता है। तुलसी में रोग-नाषक शक्ति प्रचूर मात्रा में है। चरक के अनुसार यह हिचकी, खाँसी, दमा, फेफड़ों के रोग तथा विष-निवारक होती है।
भावमिश्र ने तुलसी को हृदय रोगों में लाभकारी(beneficial), रक्त विकार को दूर करने वाली औषधी बताया है। सुश्रुत ने भी इसे रोगनाषक, तेजवर्धक वात-कफ-षोधक, छाती के रोगों में लाभवर्धक तथा आन्त्र क्रिया को स्वस्थ रखने वाली औषधी बताया है।

LEAVE A REPLY