SHARE

hungry

भूखे भजन न होय गोपाला..
====================
नाम के ऊपर वाणी है; क्योंकि वाणी द्वारा ही नाम का उच्चारण होता है। इसे ब्रह्म का एक रूप माना जा सकता है। वाणी के ऊपर संकल्प है; क्योंकि संकल्प ही मन को प्रेरित करता है। संकल्प के ऊपर चित्त है; क्योंकि चित्त ही संकल्प करने की प्रेरणा देता है। चित्त से भी ऊपर ध्यान है; क्योंकि ध्यान लगाने पर ही चित्त संकल्प की प्रेरणा देता है। ध्यान से ऊपर विज्ञान है; क्योंकि विज्ञान का ज्ञान होने पर ही हम सत्य-असत्य का पता लगाकर लाभदायक वस्तु पर ध्यान केन्द्रित करते हैं। विज्ञान से श्रेष्ठ बल है और बल से भी श्रेष्ठ अन्न है; क्योंकि भूखे रहकर न बल होगा, न विज्ञान होगा, न ध्यान लगाया जा सकेगा।

For me, not only poor but malnourished middle class kids are also poor as they don’t get the right food too! Not only physical food, our hunger for sensual gratification is highest in the history due to constant bombardment by media and hormonally imbalanced food. This will also hamper our individual and collective spiritual journey.

food

Was Shri Krishna Socialist/communist ?

नात्यश्नतस्तु योगोऽस्ति न चैकान्तमनश्नतः।
न चातिस्वप्नशीलस्य जाग्रतो नैव चार्जुन।।6.16।।

Don’t see “Demanding food for mass” with socialist or communist lenses.

It is pre-requisite for साधना. When not fulfilled, you cannot find spiritually eager critical mass. Without such critical mass, dharma? राष्ट्र? hmmm. All the best (y) Try it out.

 foodspiritual
foodspiritual_2
foodspi
food2 food3

LEAVE A REPLY