SHARE

Sanskrut_13

नमः संस्कृताय मित्रों !
संस्कृतभाषा की वाक्यरचना हिन्दी से बहुत भिन्न है, यह बात आपको सदैव याद रखनी चाहिए। हिन्दी में अपादान कारक को छोड़कर शेष सभी कारकों में ‘को’ अथवा अन्य चिह्न भी देखने में आते हैं। किन्तु संस्कृत में उसका अनुवाद करते समय आपको यह बात ध्यान रखनी है कि क्रिया के सम्पादन में वह शब्द किस कारक की भूमिका में है। यदि इसका ध्यान रखेंगे तो भ्रमित नहीं होंगे। अगले पाठों में आपको कारक-विभक्ति के विषय में समझाया जाएगा जिससे आपको यह ज्ञात हो जाएगा कि कब किस पदार्थ को कौन सा कारक माना जाएगा। अभी आप लिंग, वचन, पुरुष, विशेषण, सर्वनाम विशेषण और शब्दकोश पर ध्यान देते जाइये।

अभ्यास :
~~~~~~~

यद् ( जो ), तद् ( वह ) और किम् ( कौन ) के रूप तीनों लिंगों में याद कीजिए।

शब्दकोश :
~~~~~~~~

वनम् (वन) के पर्यायवाची शब्द –
1] अटवी ( स्त्रीलिंग )
2] अरण्यम् ( नपुसंकलिंग )
3] विपिनम् (नपुसंकलिंग )
4] गहनम् (नपुसंकलिंग )
5] काननम् (नपुसंकलिंग )
6] वनम् ( नपुसंकलिंग )

भारी वन के नाम –
1] महारण्यम् (नपुसंकलिंग )
2] अरण्यानी (स्त्रीलिंग)

_______________________________________

वाक्य अभ्यास :
===========

(निम्नलिखित वाक्यों में कुछ पशु-पक्षियों के नाम हैं उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़िये ।)

जो भालू बैठा है वह किस वन में रहता है ?
= यः भल्लूकः आसीनः अस्ति सः कस्मिन् कानने निवसति ?

जिस वन में सिंह रहता है उसी वन में खरगोश भी रहता है।
= यस्मिन् अरण्ये सिंहः वसति तस्मिन् एव अरण्ये शशकः अपि वसति।

जिसका नाम पिंगलक है वह सिंह किस वन से आया है ?
= यस्य नाम पिङ्गलकः अस्ति सः कस्मात् विपिनात् आगतः अस्ति ?

जिस मोरनी का नाम चारुपर्णा है वह किस वन से आयी है ?
= यस्याः मयूर्याः नाम चारुपर्णा अस्ति सा कस्मात् अरण्यात् आगता अस्ति ?

जिस वन से वह कौआ आया है उसी वन से वह गौरैया भी आयी है।
= यस्मात् विपिनात् सः वायसः आगतः अस्ति तस्मात् एव विपिनात् सा चटका अपि आगता अस्ति।

जिन पंखों से हंस उड़ता है उन्हीं पंखों से बगुला भी उड़ता है।
= याभ्यां पक्षाभ्यां हंसः उड्डयति ताभ्याम् एव पक्षाभ्यां बकः अपि उड्डयति ।

वह ऊँट किस विधि से काँटे खाता है ?
= सः क्रमेलकः केन विधिना कण्टकानि खादति ?

जिस विधि से सिंह मांस खाता है उसी विधि से ऊँट काँटे खाता है।
= येन विधिना मृगेन्द्रः मांसं खादति तेन एव विधिना उष्ट्रः कण्टकानि खादति।

जो बन्दर लाल मुँह वाला है, वह किस वृक्ष पर चढ़ता है ?
= यः वानरः रक्तमुखः अस्ति सः कं वृक्षम् आरोहति ?

वे भयंकर सुअर जिनके दाँत टेढ़े हैं, किन महावनों में रहते हैं ?
= ते भयङ्कराः कोलाः येषां दन्ताः वक्राः सन्ति, केषु महारण्येषु वसन्ति ?

वे काले हिरन किन वनों से आये हैं ?
= ते कृष्णसाराः केभ्यः गहनेभ्यः आगताः सन्ति ?

वह नेता नहीं वह तो गिरगिट है जो सच्ची बात वाला नहीं है।
= सः नेता नैव स तु सरटः अस्ति यः सत्यवाक्यः नास्ति।
_______________________________________

श्लोक :

यः यः यां यां तनुं भक्तः
श्रद्धयाऽर्चितुम् इच्छति।
तस्य तस्याचलां श्रद्धां
ताम् एव विदधाम्यहम्॥

(श्रीमद्भगवद्गीता 7.21)

पुस्तक में एक एक शब्द का अर्थ देखकर अपनी कापी में लिखें और मनन करें।

॥ शिवोऽवतु ॥

LEAVE A REPLY