पञ्चांग

पञ्चांग

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : त्रयोदशी)

subhashita_29-1-18

Do you know why we, with dharmic legacy, are not yet united?

Research : Greed and fear hamper cooperation

 

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
त्रयोदशी – २५:५३+ तक
 शिशिर
 सोमवासर:

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : द्वादशी)

subhashita_28-1-18

को नरक:?
परवशता |

What is hell?
Being in another’s control.

Teachers in hell. (Puppet of school management)
Intellectuals in hell. (Puppet of their thoughts and school of thoughts)
Leaders in hell.(Puppet of foreign invaders)
Warriors in hell.(Puppet of leaders)
There are more employees and less self-employers.

How can you expect स्वर्ग in land of puppets? Puppets prefer hell.

If I had the power to influence Indian journals, I would have the following headlines printed in bold letters on the first page: Milk for the infants , Food for the adults and Education for all

– Lala Lajpat Rai

Since the cruel killing of cows and other animal have commenced, I have anxiety for the future generation.

Lala Lajpat Rai

I do honestly and sincerely believe in the necessity or desirability of Hindu-Muslim unity. I am also fully prepared to trust the Muslim leaders. But what about the injunctions of the Koran and Hadis? The leaders cannot over-ride them. Are we then doomed? I hope not. I hope your learned mind and wise head will find some way out of this difficulty.

Lala Lajpat Rai

In 1900, Lala Lajpatray wrote:

“Just 20 years back in school, govt. text books(Designed by British, taught by Muslims) portrayed Shri Krishna as भांड,विदूषक,कामुक, अंहकारी, धोखाधड़ी करने वाला. This is biggest reason why Indian Society is impotent.”

Imagine importance of text books in molding societal persona.
What has happened in last 100 years due to education system, is beyond imagination. This is the reason, slavery should never accepted and always resisted!

शत शत नमन!

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
द्वादशी
 शिशिर
 रविवार

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : एकादशी)

subhashita_27-1-18

I was studying sequence of our festivals. One sequence was very interesting. Very very interesting. High respect for social scientists who designed it. Bow to societies who followed it.
 
वसंत पंचमी followed by भीष्म-अष्टमी & भीष्म-एकादशी.
 
Hint: शास्त्रोक्त काम i.e. Regulated Kama, ब्रह्मचर्ययुक्त काम is to be used for progeny generation. भीष्म is epitome of ब्रह्मचर्य. वसंत is a season of procreation. भीष्म-अष्टमी & भीष्म-एकादशी in माघ is not mere coincidence. Perform regulated Kama!
 
गंगापुत्र भीष्म – Son of Maa Ganga.
 
Ganga means त्रिदोष समता. Balance of Kapha, Pitta, Vayu. That nectar which causes balance Prkriti.
 
भीष्म is possible when there is समता.
 
Brahmcharya is natural when there is समता. Or in other words, समता causes Brahmcharya.
 
Those who wants to observe Brahmcharya for spiritual Sadhana, must strive for त्रिदोष समता along with mental practices and Pranic practices.

Worship Maa Ganga daily!


अतीव  बलहीनं  हि  लङ्घनं  नैव  कारयेत्  |
ये गुणा: लङ्घने प्रोक्तास्ते गुणा: लघुभोजने.||

अर्थ –      अत्यन्त दुर्बल व्यक्तियों को उपवास कभी नहीं करना चाहिये  |  उपवास में जो गुण हैं वे सभी गुण कम और सुपाच्य भोजन करने में भी होते हैं |

(आयुर्वेद का एक सिद्धान्त है कि – ‘लङ्घनं परमौषधम् ‘  अर्थात उपवास करना एक प्रभावशाली औषधि के सेवन के समान है और उपवास करने  से कई प्रकार के रोग नष्ट हो जाते हैं | परन्तु इस सुभाषित के अनुसार अत्यन्त दुर्बल व्यक्तियों के लिये उपवास करना निषिद्ध है | वैसा  ही लाभ वे थोडा और सुपाच्य भोजन कर के भी प्राप्त कर सकते हैं )

(In  Ayurveda (the Indian system of medicine) it is said that fasting acts like a very potent medicine in many diseases.  However through the above Subhashita the author has advised  very weak and aged persons no to do any fasting., because they can get all the benefits of fasting by having a light  and easily digestible meal.)

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
एकादशी
 शिशिर
 शनिवार

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : नवमी/दशमी)

subhashita_26-1-18

राष्ट्र भावना – अदृश्य प्रगाढ़ सूत्र

भारत राष्ट्र – एक अमर संकल्पना

 

सामाजिक और राष्ट्रीय कर्तव्योंका विनियोग = यज्ञ

 

राष्ट्र सेवा : Contribute by Strong and mighty progeny

प्रजा-आधीन राजा,राष्ट्र-प्रेमी प्रजा

 

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
नवमी – १३:३१ तक
 शिशिर
 शुक्रवासर:

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : भीष्म अष्टमी)

subhashita_25-1-18

Bhishma Ashtami 2018

Magha Shukla Ashtami is death anniversary of Bhishma Pitamah, one of the most prominent characters of the great Indian epic, the Mahabharata and this day is known as Bhishma Ashtmai. Bhishma bowed for celibacy and followed it throughout his life. Due to his loyalty and devotion to his father Pitamah Bhishma was blessed with boon to choose the time of his death.

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
अष्टमी – १५:१३ तक
 शिशिर
 गुरूवार

 

Man is known by the company he keeps : We all have individual microbial cloud

 

Child Development and Social Circle

 

Microbial Health : Be Gregarious, Be in Good Company

 

Indigestion of mind and Toxic Mental Stool

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : सप्तमी)

subhashita_24-1-18

Today, it is day to worship Sun! If you are suffering from any diseases, start worshiping Sun from Today with resolution to get rid of diseases. I am 100% sure for improvement as it is the Sun who controls our part of the universe with a mission to restore the truth/stability in all forms of life, including us.
 
भारतीय संस्कृति और हिन्दू धर्म में सूर्योपासना का अत्यधिक महत्व है ।
 
रथसप्तमी : भगवान सूर्य देव को समर्पित “रथ सप्तमी” का व्रत माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को रखा जाता है। मान्यता है इस दिन किए गए स्नान, दान, होम, पूजा आदि सत्कर्म हजार गुना अधिक फल देते हैं।
 
शास्त्रों में सूर्य को आरोग्यदायक कहा गया है इनकी उपासना से रोग मुक्ति का उपाय बताया जाता है | माघ मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी से संबंधित कथा का उल्लेख ग्रंथों में मिलता है | कथा के अनुसार श्रीकृष्ण के पुत्र शाम्ब को अपने शारीरिक बल और सौष्ठव पर बहुत अधिक अभिमान हो गया था | अपने इसी अभिमान के मद में उन्होंने दुर्वसा ऋषि का अपमान कर दिया और शाम्ब की धृष्ठता को देखकर उन्हों ने शाम्ब को कुष्ठ होने का श्राप दे दिया | तब भगवान श्रीकृष्ण ने शाम्ब को सूर्य भगवान की उपासना करने के लिए कहा | शाम्ब ने आज्ञा मानकर सूर्य भगवान की आराधना करनी आरम्भ कर दी जिसके फलस्वरूप उन्हें अपने कष्ट से मुक्ति प्राप्त हो सकी इसलिए इस सप्तमी को सके दिन सूर्य भगवान की आराधना जो श्रद्धालु विधिवत तरीके से करते हैं उन्हें आरोग्य, पुत्र और धन की प्राप्ति होती है |
शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
सप्तमी – १६:१६ तक
 शिशिर
 बुधवासरः

Below content is via www.drikpanchang.com

Saptami Tithi is dedicated to Lord Surya. Shukla Paksha Saptami in Magha month is known as Ratha Saptami or Magha Saptami. It is believed that Lord Surya Dev started enlightening the whole world on Ratha Saptami day which was considered as birth day of God Surya. Hence this day is also known as Surya Jayanti.

Ratha Saptami is highly auspicious day and it is considered as auspicious as Surya Grahan for Dan-Punya activities. By worshipping Lord Surya and observing fast on this day one can get rid of all type of sins. It is believed that seven types of sins done, knowingly, unknowingly, by words, by body, by mind, in current birth and in previous births are purged by worshipping Lord Surya on this day.

On Ratha Saptami one should take bath during Arunodaya. Ratha Saptami Snan is one of the important rituals and is suggested during Arunodaya only. Arunodaya period prevails for four Ghatis (approx. one and half hour for Indian locations if we consider one Ghati duration as 24 minutes) before sunrise. Taking bath before sunrise during Arunodaya keeps one healthy and free from all types of ailments and diseases. Because of this belief Ratha Saptami is also known as Arogya Saptami. Taking bath in water body like river, canal is preferred over taking bath at home. DrikPanchang.com lists Arunodaya period and sunrise time for most cities across the globe.

After taking bath one should worship Lord Surya during sunrise by offering Arghyadan (अर्घ्यदान) to Him. Arghyadan is performed by slowly offering water to Lord Surya from small Kalash with folded hand in Namaskar Mudra while facing Lord Sun in standing position. After this one should light Deepak of pure Ghee and worship Sun God with Kapoor, Dhup, and red flowers. By doing morning Snan, Dan-Punya and Arghyadan to Suryadev one is bestowed with long life, good health and prosperity.

 

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : षष्ठी)

subhashita_23-1-18

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
षष्ठी – १६:४० तक
 शिशिर
 मंगलवार

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : पञ्चमी)

subhashita_22-1-18

There is no alternative to strength. बलवान बनो, बलवान संतान पैदा करो!

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
पञ्चमी – १६:२४ तक
 शिशिर
 सोमवार

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : विनायक चतुर्थी)

subhashita_21-1-18

 

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
चतुर्थी – १५:३३ तक
 शिशिर ऋतू
 रविवार

via : http://literature.awgp.org/akhandjyoti/1979/October/v2.25

भौतिक-समृद्धि स्थूल साधनों से उपलब्ध होती है। आत्मिक-सिद्धि के लिए कुछ अन्य ही साधन अपेक्षित होते हैं। आत्म-साक्षात्कार- ईश्वर-साक्षात्कार के साधनों की विवेचना जहाँ भी हुई, उसमें श्रद्धा को प्रमुख माना गया है। श्रद्धा-तत्व के विकास द्वारा ही परमात्मा की अनुभूति कर पाना सम्भव होता है।

श्रद्धा का तात्पर्य उन भावनाओं अथवा आस्थाओं से है, जो अपने गुरुजनों या इष्ट के प्रति पूज्य-भाव एवं सघन आत्म भाव बनाये रखती हैं। महापुरुषों के वचनों पर विश्वास करके, उनके द्वारा उपदिष्ट मार्ग पर बढ़ सकना श्रद्धा द्वारा ही सम्भव हो पाता है। जिनके प्रति श्रद्धा के भाव नहीं होते, उनके कथन पर विश्वास कर पाना-उनके द्वारा बताये मार्ग पर चल पाना असम्भव ही रहता है। ‘श्रद्धा’ सत् तत्व के प्रति ही सघन होती है, असत् के प्रति नहीं। श्रेष्ठता का समावेश जहाँ भी होता है, श्रद्धा वहीं टिकती है, अन्यत्र नहीं। वस्तु स्थिति प्रकट होने पर श्रेष्ठता का पाखण्ड जैसे ही ध्वस्त होता है अपने साथ श्रद्धा को भी विनष्ट कर देता है। परमात्मा के प्रति श्रद्धा न डिगने का कारण उसके अस्तित्व एवं अनुग्रह के प्रति तनिक भी आशंका का न होना ही है। जिसके मन में संदेह या अविश्वास रहता है, उनकी श्रद्धा भी ईश्वर के प्रति गहन नहीं हो पाती प्रगाढ़ श्रद्धा तो मिट्टी में भी भगवान का दर्शन करा देती है। एकलव्य द्वारा मिट्टी के द्रोणाचार्य से धनुर्विद्या में पारंगत हो पाना श्रद्धा का ही चमत्कार कहा जा सकता है।

श्रद्धा द्वारा कुछ भी दुर्लभ नहीं होता है-

श्रद्धयाग्निः समिध्यते श्रद्धया हूयते हविः। श्रद्धया भगस्य मूर्धनि वचसा वेदयामसि॥ ऋ10।1511

‘श्रद्धा’ से अग्नि का प्रदीप्त किया जाना सम्भव होता है अर्थात् आत्मज्ञान की अग्नि श्रद्धा द्वारा हविष्यान्न का हवन किया जाता है अर्थात् आत्मा सत्ता को परमात्मा-सत्त, में विलय कर पाना श्रद्धा द्वारा ही सम्भव हो पाता है। श्रद्धा भग (ऐश्वर्यादिकों) के सिर पर होती है, अर्थात् सभी ऐश्वर्यों की प्राप्ति श्रद्धा का सत्परिणाम है। ऐश्वर्यादिक भग छः होते हैं-

एश्यवर्यस्य समग्रस्य धर्मस्य यशसः श्रियाः। ज्ञानवैराग्ययोश्चैव षण्णाँ भग इतीरिणा॥

ऐश्वर्य, धर्म, यश, क्षी (समृद्धि ) ज्ञान और वैराग्य-छहों को भग कहा जाता है श्रद्धा का इनमें मूर्धन्य होने का तात्पर्य है, श्रद्धा का इन पर नियन्त्रण होना। श्रेय साधक में सर्वप्रथम श्रद्धा ही प्रबल होती है, तत्पश्चात् क्रिया शीलता आती है और अन्ततः ऐश्वर्यादिकों की उपलब्धि होती है।

गीताकार श्रद्धा द्वारा आत्मज्ञान की प्राप्ति का तथ्य प्रकट करता है।-

श्रद्धा वाँल्लभते ज्ञानम्। गीता-4-38

श्रद्धावान व्यक्ति ही ज्ञान प्राप्त करता है।

योग-मार्ग के पथिकों की रक्षा’श्रद्धा’ के बलबूते ही सम्भव होती है, अन्यथा वे विघ्न-प्रलोभन उसे कभी का पथ भ्रष्ट कर देते, जो इस मार्ग में प्रायः आया करते है।

योग-दर्शन के व्यास-भाष्य में लिखा है-

सा (श्रद्धा) जननीव कल्याणं योगिन पाति।

ईश्वरानुभूति के अन्य साधन उतने सफल नहीं होते, जितना श्रद्धा की प्रगाढ़ता। याज्ञिक और योगी सर्वे प्रथम श्रद्धा की ही उपासना करते हैं क्योंकि वे इसके सत्परिणामों को जानते हैं। श्रद्धा अपनी चरम परिणिति ईश्वर साक्षात्कार के रूप में प्रकट करती है।

विनायक चतुर्थी

विनायक चतुर्थी को वरद विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। भगवान से अपनी किसी भी मनोकामना की पूर्ति के आशीर्वाद को वरद कहते हैं। जो श्रद्धालु विनायक चतुर्थी का उपवास करते हैं भगवान गणेश उसे ज्ञान और धैर्य का आशीर्वाद देते हैं। ज्ञान और धैर्य दो ऐसे नैतिक गुण है जिसका महत्व सदियों से मनुष्य को ज्ञात है। जिस मनुष्य के पास यह गुण हैं वह जीवन में काफी उन्नति करता है और मनवान्छित फल प्राप्त करता है।

हिन्दु कैलेण्डर के अनुसार विनायक चतुर्थी के दिन गणेश पूजा दोपहर को मध्याह्न काल के दौरान की जाती है। दोपहर के दौरान भगवान गणेश की पूजा का मुहूर्त विनायक चतुर्थी के दिनों के साथ दर्शाया गया है।

दैनिक सुभाषित पञ्चाङ्ग (माघ शुक्ल पक्ष : तृतीया)

subhashita_20-1-18

कोई भी संचय करनेवाला उपद्रव-मुक्त नहीं दिखाई देता| This is very easy to understand by example of over-eating or use of chemical fertilizers in agriculture land. Too much accumulation nutrients, soil wealth = trouble for decades to come.

शक सम्वत:
१९३९ हेमलम्बी
चन्द्रमास:
माघ – अमांत
विक्रम सम्वत:
२०७४ साधारण
माघ – पूर्णिमांत
गुजराती सम्वत:
२०७४
पक्ष:
शुक्ल पक्ष
तिथि:
तृतीया – १४:१० तक
 शिशिर ऋतू
 शनिवार

Popular Posts

My Favorites

Soul harvesting : direct and indirect

There are two types of soul harvesting. One is direct where people work for religious conversion and by mocking and insulting local belies. Another...